Chandra Grahan Kab Hai

Chandra Grahan Kab Hai 2022: साल 2022 का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को पड़ रहा है। चंद्र ग्रहण के दिन बुद्ध पूर्णिमा भी पड़ रही है। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के साथ दो शुभ संयोग भी बन रहे हैं। ज्योतिषियों का कहना है कि आने वाला चंद्र ग्रहण तीनों राशियों के लिए बहुत ही शुभ रहने वाला है।

Chandra Grahan Kab Hai 2022: साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगने जा रहा है। ज्योतिष गणना के अनुसार यह पूर्ण चंद्र ग्रहण होगा जो भारत में दिखाई नहीं देगा। चंद्र ग्रहण के दिन बुद्ध पूर्णिमा भी पड़ रही है। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के साथ दो शुभ संयोग भी बन रहे हैं। ज्योतिषियों का कहना है कि आने वाला चंद्र ग्रहण (Chandra Grahan) तीनों राशियों के लिए बेहद शुभ रहने वाला है।

हिंदू पंचांग के अनुसार साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगेगा। वहीं इस दिन सुबह 06.16 बजे तक वरियाण योग रहेगा। इसके बाद 16 मई की सुबह से दोपहर करीब 2.30 बजे तक अगले दिन परिघा योग (Parigha Yoga) भी रहेगा। ज्योतिषियों के अनुसार वारियन योग में किए गए सभी शुभ कार्य पूर्ण रूप से पूरे होते हैं। जबकि परिघ योग (Parigha Yoga) में शत्रु के विरुद्ध अपनाई गई रणनीतियां काफी कारगर सिद्ध होती हैं।

किन राशियों को होगा फायदा?

मेष

चंद्र ग्रहण के दौरान दो शुभ योग बनने से मेष राशि के जातकों पर विशेष कृपा बनी रहेगी। करियर के मामले में समय बहुत अच्छा रहेगा। धन लाभ होगा। नौकरीपेशा लोगों के अलावा कारोबारियों के लिए भी ग्रहण शुभ है। प्रॉपर्टी में निवेश के लिए भी समय अच्छा है। परिवार से जुड़ा कोई मामला सुलझ जाएगा। जीवनसाथी का पूरा सहयोग मिलेगा।

सिंह

सिंह राशि के जातकों को भी आगामी चंद्र ग्रहण पर बनने वाले संयोग से काफी लाभ होगा। नौकरी में पदोन्नति के योग हैं। आय के नए स्रोत सामने आएंगे। कोई महत्वपूर्ण कार्य होने की संभावना है। व्यक्तिगत रूप से आगे बढ़ने की काफी संभावनाएं हैं। दाम्पत्य जीवन में सुधार होगा। विवाह के प्रस्ताव भी प्राप्त हो सकते हैं।

धनु

धनु राशि के जातकों के लिए भी यह चंद्र ग्रहण काफी शुभ माना जाता है। तरक्की के नए रास्ते खुलेंगे। नई नौकरी मिलने के भी योग बन रहे हैं। व्यापारियों को बड़ा लाभ मिल सकता है। आर्थिक मोर्चे पर बड़ा फायदा होगा। शादी से जुड़ी कोई बातचीत तय हो सकती है। घर के सदस्यों का पूरा सहयोग मिलेगा।

यह भी पढ़ें – Vaishakh Purnima: वैशाख पूर्णिमा को क्यों कहा जाता है बुद्ध पूर्णिमा, जानिए पूजा तिथि, मुहूर्त और व्रत के लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published.